Vijay Hazare Trophy: सौराष्ट्र 14 साल बाद चैंपियन बना, महाराष्ट्र को हराया, ऋतुराज पर भारी पड़ा शेल्डन का शतक

02 December 2022 06:41 PM
Hindi
  • Vijay Hazare Trophy: सौराष्ट्र 14 साल बाद चैंपियन बना, महाराष्ट्र को हराया, ऋतुराज पर भारी पड़ा शेल्डन का शतक

Saurashtra vs Maharashtra, Vijay Hazare Trophy Final Highlights: सौराष्ट्र के कप्तान जयदेव उनादकट ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला लिया था। महाराष्ट्र ने 50 ओवर में नौ विकेट गंवाकर 248 रन बनाए। जवाब में सौराष्ट्र ने 46.3 ओवर में पांच विकेट गंवाकर लक्ष्य हासिल कर लिया।

महाराष्ट्र और सौराष्ट्र के बीच अहमदाबाद में विजय हजारे ट्रॉफी का खिताबी मुकाबला खेला गया। सौराष्ट्र की टीम 14 साल बाद फिर से विजय हजारे टूर्नामेंट की चैंपियन बन गई है। पिछली बार टीम 2008 में चैंपियन बनी थी। महाराष्ट्र के कप्तान ऋतुराज गायकवाड़ पर सौराष्ट्र के शेल्डन जैक्सन की पारी भारी पड़ी। सौराष्ट्र ने पांच विकेट से मैच और खिताब अपने नाम किया।

सौराष्ट्र के कप्तान जयदेव उनादकट ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला लिया था। महाराष्ट्र ने 50 ओवर में नौ विकेट गंवाकर 248 रन बनाए। ऋतुराज ने 108 रन की पारी खेली। जवाब में सौराष्ट्र ने 46.3 ओवर में पांच विकेट गंवाकर लक्ष्य हासिल कर लिया। शेल्डन 136 गेंदों में 133 रन बनाकर नाबाद रहे।

सौराष्ट्र की टीम दूसरी बार बनी चैंपियन
महाराष्ट्र की नजर पहली बार चैंपियन बनने पर थी। टीम पहली बार फाइनल खेल रही थी। वहीं, सौराष्ट्र दूसरी बार 50 ओवर के इस टूर्नामेंट को अपने नाम करने उतरा था। सौराष्ट्र की टीम फाइनल पर महाराष्ट्र पर दबाव बनाने में कामयाब रही और दूसरी बार चैंपियन बनी। ऋतुराज की शतकीय पारी पर शेल्डन जैक्सन ने पानी फेर दिया। टूर्नामेंट में सौराष्ट्र के तेज गेंदबाजों का दबदबा रहा है तो वहीं, महाराष्ट्र के बल्लेबाजों ने शानदार प्रदर्शन किया।

फाइनल में ऋतुराज की कप्तानी पारी
इससे पहले महाराष्ट्र की शुरुआत खराब रही। पवन शाह चार रन बनाकर आउट हुए। वहीं, सत्यजीत बचाव ने 27 रन की पारी खेली। अंकित बावने कुछ खास नहीं कर सके और 22 गेंदों में 16 रन बनाकर आउट हुए। कप्तान ऋतुराज गायकवाड़ ने शतक जड़ा। वह 131 गेंदों में सात चौके और चार छक्के की मदद से 108 रन बनाकर रन आउट हुए।

विजय हजारे टूर्नामेंट के इस सीजन में यह ऋतुराज का लगातार तीसरा शतक रहा। इससे पहले यूपी के खिलाफ उन्होंने नाबाद 220 रन और असम के खिलाफ सेमीफाइनल में 168 रन की पारी खेली थी। इसके अलावा ऋतुराज रेलवेज के खिलाफ टूर्नामेंट की शुरुआत में नाबाद 124 रन बनाए थे।

अजीम काजी 33 गेंदों में 37 रन और सौरभ नवाले 13 रन बनाकर आउट हुए। 2022 अंडर-19 विश्व कप के हीरो राजवर्धन हंगरगेकर और विक्की ओस्तवाल खाता भी नहीं खोल सके। मुकेश चौधरी दो रन बनाकर आउट हुए। नौशाद शेख 31 रन बनाकर नाबाद रहे। सौराष्ट्र की ओर से चिराग जानी ने सबसे ज्यादा ज्यादा तीन विकेट लिए। वहीं, कप्तान जयदेव उनादकट और पार्थ भुत को एक-एक विकेट मिला।

शेल्डन ने सौराष्ट्र को जीत दिलाई
249 रन के लक्ष्य का पीछा करने उतरी सौराष्ट्र की टीम की शुरुआत शानदार रही। हार्विक देसाई ने शेल्डन के साथ मिलकर पहले विकेट के लिए 125 रन की साझेदारी निभाई। हार्विक अर्धशतक लगाकर आउट हुए। उन्होंने 67 गेंदों में 50 रन की पारी खेली। इसके बाद जय गोहिल खाता भी नहीं खोल सके। सामर्थ व्यास 12 रन बनाकर पवेलियन लौटे।

अर्पित वासवाड़ा भी कुछ खास नहीं कर सके और 15 रन बनाकर आउट हुए। प्रेरक मांकड़ एक रन बना पाए। हालांकि, शेल्डन ने एक छोर संभाले रखा और शतक जड़ा। उन्होंने चिराग जानी के साथ मिलकर सौराष्ट्री की टीम को जीत दिलाई। शेल्डन 136 गेंदों पर 12 चौके और पांच छक्कों की मदद से 133 रन बनाकर नाबाद रहे। वहीं, चिराग 25 गेंदों में तीन चौके की मदद से 30 रन बनाकर नाबाद रहे।

कप्तान ऋतुराज ने महाराष्ट्र को फाइनल तक पहुंचाया
इस पूरे टूर्नामेंट में महाराष्ट्र की बल्लेबाजी कप्तान ऋतुराज गायकवाड़ पर निर्भर थी। वह शानदार फॉर्म में हैं। उनके दम पर ही महाराष्ट्र फाइनल तक पहुंचा था। ऋतुराज ने इस टूर्नामेंट में पांच मैचों में 660 रन बनाए। टूर्नामेंट में उन्होंने कुल चार शतक लगाए। इस दौरान उन्होंने क्वार्टर फाइनल में उत्तर प्रदेश के खिलाफ रिकॉर्ड नाबाद 220 रनों की पारी खेली थी।

इस पारी में ऋतुराज ने एक ओवर में सात छक्के भी जड़े थे। उनके अलावा महाराष्ट्र के अन्य बल्लेबाज अंकित बावने आठ पारियों में 587 रन बना पाए। महाराष्ट्र के लिए राहुल त्रिपाठी फाइनल नहीं खेले। वह चार दिसंबर से बांग्लादेश के खिलाफ शुरू होने वाली तीन मैचों की वनडे सीरीज के लिए भारतीय टीम में शामिल हैं।

कप्तान उनादकट का शानदार प्रदर्शन
सौराष्ट्र की गेंदबाजी का जिम्मा कप्तान जयदेव उनादकट के कंधों पर था और उन्होंने इसे बखूबी निभाया भी। उन्होंने इस टूर्नामेंट में 19 विकेट झटके। इस दौरान उन्होंने सेमीफाइनल में कर्नाटक के खिलाफ 26 रन देकर चार विकेट और ग्रुप मैच में हिमाचल के खिलाफ 23 रन देकर पांच विकेट लिए थे।

सौराष्ट्र के अनुभवी बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा फाइनल मैच में नहीं खेल रहे थे। वह भारत-ए टीम के साथ अभी बांग्लादेश में है जो टेस्ट सीरीज के लिए तैयारी कर रहे हैं। इसके अलावा सौराष्ट्र के बाएं हाथ के तेज गेंदबाज चेतन सकारिया भी इस मैच के लिए उपलब्ध नहीं थे। उन्हें क्वार्टर फाइनल में तमिलनाडु के खिलाफ अंगुली में चोट लग गई थी।


Related News

Advertisement
Advertisement
Advertisement